बुधवार, 25 मार्च 2009

एक बयाँ का सुपरस्टार नेता वरुण गाँधी


भारतीय राजनीती में किसी भी नेता के सुपरस्टार बनाने या फिर सुर्खियों मैं आने के लिए एक बयां ही काफी लगता है और उसके बाद वह पुरे देश की लहर के साथ पार पा जाता है और उससे भी पुराने नेता बस पार्टी की आम सभा मैं अपनी सीट पर शोभा बढ़ने के कम के रह जाते है
भारतीय जनता पार्टी को भी अपने लिए एक नए नेता की जरुरत थी जो देश के युवाओं को अपने साथ करके देश मई पार्टी पा परचम फहरा सके, आखिर कर इस चुनाव ने उनको वो चेहरा दे ही दिया. इस बार एक तरफ पार्टी के वयोवृद्ध नेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी राजनीती की मुख्या धारा से किनारा करने मे लगे है तो दूसरी तरफ पार्टी लालकृष्ण अडवाणी को पीएम पद का उम्मीदवार मान कर चल रही है
वहीँ गुजरात का शेर या लोकप्रिय मुख्मंत्री कहे जाने वाले नरेन्द्र भाई मोदी स्टार प्रचारक है कुल मिलकर भाजपा को काफी कुछ मिला है
इन सब से बढ़कर भाजपा को जो उपहार मिला है वह है वरुण गाँधी , जो एक एसा नाम है जो कांग्रेस के गाँधी परिवार के सामने तुरुप का इक्का है जो देश के युवा हिंदुत्व का नया चेहरा है जिसमे आडवानी और नरेन्द्र भाई की तरह ओज और तेज है वरन उसमे अपने पिता के जैसी दृड़ इच्छा शक्ति भी है जिसके दम पर वह किसी भी प्रतिद्वंधि पर भारी पड़ सकते है
वरुण वाले ही पिछले काफी समय से राजनीती मे सक्रीय नहीं रहे है मगर अब देर आये तो दुरुस्त आये . जो भी हो आने वाले समय क़रने वरुण बीजेपी मे बहुत बड़े रिक्त स्थान की पूर्ति करने क़रने सक्षम है.
अब चाहे सोनिया जी कुछ बोले या फिर प्रियंका या राहुल गाँधी वरुण के बयान से चौंक जाये ये तो होना ही था बस अब एक बात तो हमें समझ लेनी चाहिए वरुण के एक बयान ने सम्पूर्ण कांग्रेस के साथ साथ गाँधी परिवार होश उड़ा दिए जो निश्चय ही किसी सिंह गर्जना से कम नहीं है
अब जब भी भविष्य की राहुल के हाथ की बागडोर होगी भाजपा मे भी उन्हें बराबर टक्कर देने वाला होगा. ये बयान बाजी तो अब आम बात होनी है
इसको किसी को सांप्रदायिक मामला मानने की बजे राजनितिक मन्ना चहिये अब एसा ही नहीं सकता था की वरुण भी कोंग्रेस में शामिल हो जाते .
फिर भी एक बयां का नेता कहो या फिर शेर की गर्जना कहो वरुण को देश की सभी ने सुन तो लिया है की अब कोई और भी आया है . . . . . . . . . . . . . . . . .

2 टिप्‍पणियां:

दीपक बाबा ने कहा…

बहूत सुंदर, वरुण गाँधी को ठाकरे जैसे नेता शाबाशी दे रहे है जो की बीजेपी के लिए शर्म की बात है ... बाबा

Madhaw ने कहा…

जीवन में हमारे सामने कई तरह के सवाल आते हैं... कभी वो अर्थ के होते हैं... कभी अर्थहीन.. अगर आपके पास हैं कुछ अर्थहीन सवाल या दें सकते हैं अर्थहीन सवालों के जवाब तो यहां क्लिक करिए